Digital Akhbaar

Latest Hindi News

2020 DELHI RIOTS

2020 DELHI RIOTS : 16 फरवरी को रची थी दंगे की साजिश, चांदबाग में कई घंटे चली थी खुफिया बैठक

2020 DELHI RIOTS: 16 फरवरी को रची थी दंगे की साजिश, चांदबाग में कई घंटे चली थी खुफिया बैठक

2020 DELHI RIOTS

दिल्ली में दंगा कराने के फैसले पर 16 फरवरी की रात ही मुहर लगा दी गई थी। उस रात दंगे के मुख्य आरोपित उमर खालिद ने चांदबाग स्थित कैंप कार्यालय में कई घंटे तक गोपनीय बैठक की थी। इसमें अथर खान, नदीम व ताहिर हुसैन सहित जामिया कॉआर्डिनेशन कमेटी व पिंजरा तोड़ की छात्राओं सहित स्थानीय नेता शामिल हुए थे। इसके बाद जाकिर नगर में भी उमर खालिद ने गोपनीय बैठक की थी। इसमें शरजील इमाम, उमर खालिद, ताहिर हुसैन, फैजल फारुख सहित कई लोगों ने हिस्सा लिया था।

2020 DELHI RIOTS : वाट्सऐप ग्रुप के सदस्य थे एक हफ्ते पहले सक्रिय

2020 DELHI RIOTS

उमर खालिद द्वारा वाट्सएप पर बनाए गए दिल्ली प्रोटेस्ट सपोर्ट ग्रुप (डीपीएसजी) के सदस्यों ने दंगे से एक सप्ताह पहले ही सक्रियता बढ़ा दी थी। डीपीएसजी के सदस्यों उमर खालिद, नदीम खान, अथर, शरजील इमाम व पिंजरा तोड़ की सदस्यों ने हिंसा भड़काने के पूरे इंतजाम किए थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक शाहीनबाग में जब सड़क जाम करने का स्थानीय लोगों ने विरोध किया तो शरजील ने कहा था कि वह जेएनयू के 200 छात्रों और 20-25 वकीलों को लाकर सड़क जाम करा लेगा।

2020 DELHI RIOTS :  22 धरनास्थलों पर पिंजरा तोड़ व एमएसजे के सदस्य कर रहे थे नेतृत्व

2020 DELHI RIOTS

दंगा कराने के लिए डीपीएसजी के सदस्यों ने पूरी तैयारी की थी। इसके लिए उमर खालिद, योगेंद्र यादव व ताहिर हुसैन सहित अन्य लोग ग्रुप में योजना बनाते थे। इसके बाद योजना के बारे में जामिया कोऑडिनेशन कमेटी को बताया जाता था। यही नहीं सभी 22 धरनास्थलों पर व्यवस्था की जिम्मेदारी पिंजरा तोड़ की सदस्य और मुस्लिम स्टूडेंट ऑफ जेएनयू (एमएसजे) के एक-एक सदस्य को दी गई थी। योजना की जानकारी इन सदस्यों को दी जाती थी, जिसे ये लोग धरने पर बैठे लोगों के साथ साझा करके उन्हें भड़काते थे।

2020 DELHI RIOTS : ग्रुप के सदस्यों ने जताया था विरोध

2020 DELHI RIOTS

एक सप्ताह पहले सक्रियता बढ़ा देने पर ग्रुप में शामिल समुदाय विशेष के लोगों में हलचल होने लगी थी। इसके बाद 17 फरवरी को डीपीएसजी ग्रुप के एक सदस्य ने कहा था कि आप लोगों ने हिंसा भड़काने की योजना बनाई है। आप ऐसा प्रयास न करें, क्योंकि इसमें नुकसान सभी को उठाना पड़ेगा।

2020 DELHI RIOTS

इस आपत्ति पर किसी ने जवाब नहीं दिया। इसी तरह 22 फरवरी को एक और सदस्य ने कहा कि तुम लोगों की वजह से सीलमपुर के अलावा पूरे यमुनापार के लोग चिंतित हैं। 1992 के दंगे के घाव अभी भरे नहीं हैं और इस तरह के व्यवहार से दोबारा दंगे हो सकते हैं। कफन बांधकर आए हैं, आखिर इस तरह के नारे लगाने का क्या मतलब है।

Also visit –http://digitalakhbaar.com/kangana-ranaut-news-4/