Digital Akhbaar

Latest Hindi News

1597322338132

1597322338132

Bangalore Violence : बेंगलुरु हिंसा में SDPI नेता गिरफ्तार, 3 की मौत

Bangalore Violence : क्यों हुआ रातो – रात दंगा?

Bangalore Violence

बेंगलुरु में एक सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर शहर में हिंसा भड़क गई। जिसके बाद मंगलवार की रात डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन में तोड़फोड़ की गई। इस हिंसा में अबतक तीन लोगों की मौत हो चुकी है और 60 पुलिस कर्मी घायल हैं। पुलिस ने अबतक 110 लोगों को गिरफ्तार किया है।

Bangalore Violence : 15  अगस्त तक लागू रहेगी धारा 144

Bangalore Violence

मंगलवार की रात हुई बेंगलुरु हिंसा में बड़ी बात निकलकर सामने आई है। पुलिस की माने तो 5 दंगाइयों ने 300 लोगों का गैंग बनाया था। उनका प्लान सभी पुलिसवालों को जान से मारने का था। हमलावरों ने हिंसा के दौरान पुलिस को निशाना बनाने के लिए गुरिल्ला जैसी तकनीक का इस्तेमाल किया। बेंगलुरु हिंसा में जो कुछ हुआ वह कई पुराने पुलिसकर्मियों ने बहुत दिनों बाद देखा होगा।

Bangalore Violence

वहीं नए भर्ती हुए पुलिस कर्मियों के लिए यह एक चौंकाने वाला अनुभव रहा। बेंगलुरु हिंसा में जो कुछ हुआ उसकी पुलिस को कभी आशंका भी नहीं थी। उधर, रैपिड एक्शन फोर्स ने गुरुवार को डीजे हल्ली पुलिस स्टेशन इलाके में फ्लैग मार्च किया। इस इलाके में 15 अगस्त को सुबह 6 बजे तक धारा 144 लागू है।

Bangalore Violence : रात 2 बजे तक चला हिंसा का क्रम

Bangalore Violence

कवलबीरसांद्रा, केजी हल्ली और डीजे हल्ली इलाके में फैली हिंसा का यह रूप शायद ही कभी किसी ने देखा होगा। हिंसा का यह क्रम मंगलवार रात पुलकेशीनगर के विधायक आर अखंडा श्रीनिवास मूर्ति के घर के सामने शुरू हुआ। जो कि रात करीब दो बजे तक चलता रहा। रात 10 बजे के बाद हालात बिगड़ गए क्योंकि केजी हल्ली और डीजे हल्ली पुलिस थाने पर भीड़ ने ताला लगा दिया और पुलिस वाहनों को आग लगा दी। दो स्टेशनों पर सहकर्मियों की मदद के लिए शहर के दूसरे हिस्सों से पहुंचे अतिरिक्त पुलिस बलों को कर कदम पर पत्थरों, ईंटों, बोतलों और अन्य वस्तुओं का सामना करना पड़ा।

Bangalore Violence : हवा में फायरिंग का दिया आदेश: कमिश्नर

Bangalore Violence

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि स्ट्रीट लाइट्स क्षतिग्रस्त हो गईं और कई स्थानों पर उन्हें अंधेरे में सड़क ब्लॉक पर हमलावरों से बातचीत करनी पड़ी। जिन वाहनों को दंगाइयों ने नुकसान पहुंचाया था या आग लगाई गई थी, उन्हें पटरियों को बंद करने के लिए सड़क के बीच में धकेल दिया गया था। पुलिस कमिश्नर कमल पंत ने कहा कि 75 पुलिस अधिकारियों के साथ जब हम चल रहे थे, तब भी पत्थरों को पहले स्ट्रीट लाइट्स पर फेंका गया। जिससे पूरे क्षेत्र में अंधेरा छा गया था। अगले ही पल पत्थर, बोतलें, टायर, लकड़ी के लॉग और ईंटें हम पर बरसने लगीं। इससे हमारे पुलिस कर्मियों को चोटें आईं और वह घायल हो गए। इसके बाद हमने हवा में फायरिंग का आदेश दिया।

Bangalore Violence : संकरी गलियों से हमलावरों को मिला मौका

Bangalore Violence

एक अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि केजी हल्ली की संकरी गलियों के कारण हमलावरों को पुलिस पर हमला करने का पूरा मौका मिला। हमलावर हर जगह थे। ये हमलावर स्थानीय नहीं थे। उन्होंने कहा कि केवल हवा में कई राउंड फायर किए जाने और आंसू गैस के गोले दागे जाने के बाद हमलावर पीछे हटने लगे। धार्मिक प्रचारक और राजनीतिक नेता भी पहुंचे, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

Bangalore Violence : पुलिस फायरिंग में तीन लोगों की मौत

Bangalore Violence

बेंगलुरु हिंसा के दौरान भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस के गोली चलाने से तीन लोगों की मौत हो गई है। वहीं, राज्य सरकार ने इस पूरी हिंसा को ‘सुनियोजित’ बताया है। बेंगलुरु के पुलिस आयुक्त कमल पंत ने बताया कि पुलाकेशी नगर में हुए दंगों के सिलसिले में 110 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एक ऑनलाइन पोस्ट के कारण मंगलवार रात को शुरू हुई हिंसा बुधवार तड़के तक चलती रही। इसमें करीब 50 पुलिसकर्मियों सहित बड़ी संख्या में लोग घायल हुए हैं। गुस्साई भीड़ ने पुलाकेशी नगर के विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के आवास और डीजे हल्‍ली थाने को निशाना बनाया।

Also visit-http://digitalakhbaar.com/ril-breaks-into-top-100-global-companies/