Digital Akhbaar

Latest Hindi News

1596867385443 1

1596867385443 1

KERALA PLANE CRASH: मरने से पहले पायलट ने 170 लोगों की जान बचाई

Kerala Plane Crash:

केरल(कोज़हीकोडे):

KERALA PLANE CRASH

केरल के कोझिकोड में रनवे  से फिसलकर एयर इंडिया का विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में दो पायलट समेत अब तक 17 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। दुर्घटना में विमान के मुख्य पायलट और को-पायलट ने भी अपनी जान गंवा दी, लेकिन मरने से पहले पायलट ने 170 लोगों की जान बचाई।

KERALA PLANE CRASH: एयर फोर्स के पायलट रहे चुके थे दीपक साठे

KERALA PLANE CRASH

हादसे के वक्त विमान के मुख्य कप्तान दीपक वसंत साठे थे। दीपक वसंत साठे एयर फोर्स के टेस्ट पायलट रह चुके हैं। बता दें कि एयर फोर्स के टेस्ट पायलट बहुत सारे एयरक्राफ्ट पर टेस्ट करते हैं। उन्हें विमान उड़ाने का काफी अनुभव था। बताया जा रहा है कि इस कारण अपनी सूझ-बूझ से पायलट ने भले ही अपनी जान गंवा दी लेकिन 170 यात्रियों की जान बचा ली।

KERALA PLANE CRASH: कुल 191 यात्री थे सवार

KERALA PLANE CRASH

बता दें कि हादसे के वक्त विमान पर क्रू मेंबर्स समेत कुल 191 यात्री सवार थे। इसमें 128 पुरुष, 46 महिलाएं तथा 10 बच्चे शामिल हैं। हादसे में दोनों पायलटों समेत  17 लोगों ने अब तक अपनी जान गंवाई है। 123 लोग इस हादसे में घायल हुए हैं। इनमें में 15 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है।

 

KERALA PLANE CRASH

सेंटर फॉर एयर पावर स्टडीज के डायरेक्टर एयर वायस मार्शल मनमोहन बहादुर ने इस घटना के बाद ट्वीट करते हुए बताया कि वह दीपक साठे के साथ टेस्ट पायलट रह चुके हैं। उन्होंने बताया कि दीपक साठे बहुत ही अनुभवी पायलट थे। इसके आगे उन्होंने लिखा, “RIP Tester” मनमोहन बहादुर ने जानकारी दी कि टेस्ट पायलट के कॉल साइन के तहत नाम के आगे ‘टेस्टर’ लगता है।

KERALA PLANE CRASH: दूसरी लैंडिंग मे फिसला जहाज

KERALA PLANE CRASH

बता दें कि जब विमान रनवे पर लैंड करने जा रहा था तो पहले प्रयास में विमान लैंड नहीं हो पाई थी। इसके बाद पायलट ने अपने अनुभव का इस्तेमाल करते हुए दूसरी लैंडिंग कराई। हालांकि बदकिस्मती से दूसरी लैंडिंग में एयर इंडिया का विमान IX-1344 एयर पोर्ट के रनवे पर फिसल गया। इस समय रनवे पर विजिबिलिटी भी कम थी तथा रनवे पर पानी भरा हुआ था।

एयर इंडिया का यह विमान फिसलने के बाद 35 फीट नीचे खाई में जा गिरा। हादसे में विमान के दो टुकड़े हो गए। पायलट ने विमान को नियंत्रित करने के लिए अपनी जान लगा दी थी, लेकिन वह उसे फिसलने से नहीं रोक सके। वंदे मिशन के तहत यह विमान यात्रियों को दुबई से लेकर भारत आ रहा था।

 

Also visit-http://digitalakhbaar.com/bookmyfiber-by-bsnl/