Digital Akhbaar

Latest Hindi News

IMG 20200707 WA0004

IMG 20200707 WA0004

बदलती जीवनशैली मे लोकल से ग्लोबल

लोकल से ग्लोबल

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत की वकालत करते हुए इस बात पर जोर दिया है की लोकल को सब और बढ़ाया जाना चाहिए | स्थानीय उत्पाद, लोकल मार्केट, मैन्युफैक्चरिंग और लोकल से वोकल जीवनशैली को अपनाया जाना चाहिए | यह आत्मनिर्भर चिंतन व समग्र पदत्ति भारत के जीवन के लिए नया महामंत्र होगा |

स्थानीय उत्पाद और  बाज़ार भारत की सांस्कृतिक विविधता के प्रयाय रहे है| छोटे छोटे बाज़ारो मे स्थानीय आवश्यकता के सभी सामान मिलते रहे है | छोटे कसबो मे हाट, चौपाल ना जाने कब से स्थानीय आवश्यकताओ की पूर्ति करते आ रहे है| स्थानीय सब्ज़िया, गुड़ व डाले जैसी दैनिक उपयोग की हजारो चीज़े इन बाज़ारो मे सदैव सुलभ रही है| साप्ताहिक बाज़ार साप्ताहिक रोजगार की भी पूर्ति करते है|

कृषि जीवन इन ग्रामीण बाज़ारो की मुख्य शान है | भारत माता का ग्राम्य चरित्र की झलक इससे बखूबी मिलती है | अब बात करे स्थानीय मैन्युफैक्चरिंग की | भारत मे जिन्हे आज लघु उद्योग कहा जाता है,  वे भारत की आर्थिक लाइफलाइन का निर्माण करते है | मुंबई का धारावी सामाजिक लोकजीवन के साथ ही हजारो तरह की आर्थिक गतिविधियो का केन्द है | छोटी छोटी स्थानीय उत्पादन की इकाइयो के चलते ना पानी की अधिक मांग रहती है ना बिजली की ज्यादा खपत | एक-दो कमरो मे चलने वाली यह आर्थिक इकाइया भारत की मध्यवर्ग की आवश्यकताओ को बखूबी पूरा करती है| कुम्हारी काला भी एक ऐसा अनुभव है जिसने पीने के पानी के बर्तन, गमले आदि चीज़ो को आगे लाया है| प्रधानमंत्री जी ने बदलते दौर मे स्थानीय उत्पाद को महत्व देकर एक नयी चेतना को जन्म दिया है |

देखना यह होगा की ग्लोबलाइजेशन और नव उदारवादी स्वाद चखने के बाद यह परिवर्तन कितनी आसानी से भारतीय लोकजीवन मे प्रवेश कर पायेगा | इसका महामंत्र लोकल से ग्लोबल होगा और लोकल को प्रमोट करने के लिए हर तरह की रणनीति बनानी होगी |