Digital Akhbaar

Latest Hindi News

QUESTION ON PM CARE FUND : पीएम केअर फण्ड को लेकर चिदंबरम का सवाल

QUESTION ON PM CARE FUND :

QUESTION ON PM CARE FUND

कोविड-19 संकट को देखते हुए बनाए गए पीएम केयर्स फंड में 5 दिनों में 3,076 करोड़ की राशि आई। सरकार द्वारा जारी की गई ऑडिट रिपोर्ट से यह जानकारी सामने आई है। वित्त वर्ष 2020 के स्टेटमेंट के अनुसार यह रिकॉर्ड डोनेशन 27 से 31 मार्च के बीच हुआ है, इस अवधि में फंड को बनाया जा रहा था।

QUESTION ON PM CARE FUND

3,076 करोड़ रुपये में से  3,075.85 करोड़ रुपये का दान घरेलू और स्वैच्छिक है, जबकि 39.67 लाख रुपये का योगदान विदेशों से किया गया है। पीएम केयर्स  के स्टेटमेंट में कहा गया कि 2.25 लाख रुपये से फंड की शुरुआत की गई थी और इस फंड को करीब 35 लाख रुपये ब्याज के एवज में भी मिले हैं।

QUESTION ON PM CARE FUND : पीएम केअर फण्ड बनाए जाने की वजह

QUESTION ON PM CARE FUND

बता दें कि कोरोना महामारी जैसी आपातकालीन या संकट की स्थिति से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष (पीएम केयर्स फंड) के नाम से एक सार्वजनिक धर्मार्थ ट्रस्ट बनाया गया है। इसका प्राथमिक उद्देश्य प्रभावित लोगों को राहत प्रदान करना है। प्रधानमंत्री इस फंड के पदेन अध्यक्ष हैं और रक्षामंत्री, गृहमंत्री और वित्तमंत्री पदेन न्यासी हैं।

https://digitalakhbaar.com/pm-to-address-nation-on-usispf/

QUESTION ON PM CARE FUND :  ट्वीट मे चिदंबरम ने मोदी पर साधा निशाना

QUESTION ON PM CARE FUND

ऑडिटर्स ने पुष्टि की है कि 26 से 31 मार्च, 2020 के बीच केवल 5 दिनों में फंड को 3076 करोड़ रुपये मिले।

 

QUESTION ON PM CARE FUNDऑस्टेटमेंट को पीएम केयर्स फंड की वेबसाइट पर साझा किया गया है लेकिन इस स्टेटमेंट में नोट 1 से लेकर 6 तक की जानकारी को सार्वजनिक नहीं किया गया है। इसका मतलब यह हुआ कि घरेलू और विदेशी दानकर्ताओं की जानकारी सरकार ने नहीं दी है। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने ट्वीट कर इस पर सवाल उठाए हैं।

QUESTION ON PM CARE FUND

उन्होंने पूछा कि इन डोनर्स की जानकारी क्यों नहीं दी बताई गई।  उन्होंने पूछा कि प्रत्येक अन्य एनजीओ या ट्रस्ट एक सीमा से अधिक राशि  दान करने वाले दानकर्ताओं के नाम प्रकट करने के लिए बाध्य है। इस दायित्व से PM CARES FUND को छूट क्यों है? उन्होंने पूछा कि दान पाने वाला ज्ञात है।दान पाने वाले के ट्रस्टी ज्ञात हैं।तो ट्रस्टी,दानदाताओं के नाम उजागर करने से क्यों डर रहे हैं।

Also visit –http://digitalakhbaar.com/sushant-singh-rajput-case-16/