Digital Akhbaar

Latest Hindi News

IMG 20200726 WA0015

IMG 20200726 WA0015

Salute to soldiers: मेरे अनुभव

Salute to soldiers:

आज कारगिल दिवस है|भारतीय सेनिको की युद्ध मे भाग लेने की मेरे पास दो गाथाये है| पहला भारतीय शांति सेना का श्रीलंका मे युद्ध मे भाग लेना दूसरा कारगिल युद्ध|

भारतीय शांति सेना के श्रीलंका मे भाग लेने के समय मे एक छोटे से पहाड़ी जिले पिथौरागढ़ मे SDM था| शांति सेना के ऑपरेशन के दौरान मारे गये सेनिको की वीर पत्निया करीब रोज़ रोज़ मेरे पास शपथपत्र बनवाने आती थी| इस शपथपत्र मे उनसे संभंधित सूचनाओं को प्रमाणित करना पड़ता था, जो मैंने किया| प्रत्येक शपथपत्र मे यह प्रमाणित करना होता था की वे अमुक-अमुक की व्याहता पत्निया है और उनका घर परिवार मेरे जिले की तहसील मे पड़ता है| बाद मे मैने इसी विषय पर एक कहानी- “केयर ऑफ़ 56 APO” लिखी जो अल्मोड़ा की पत्रिका “पुरवासी” मे प्रकाशित हुई| 20-21 साल की वीर पत्नियों को देख कर मे अक्सर भावुक हो जाया करता था| नया नया अधिकारी था इसलिए आँखो का नम होना स्वाभाविक था|

कारगिल युद्ध तक मैं पदोन्नति पा चुका था और अब मे अपर जिला मजिस्ट्रेट टिहरी, गढ़वाल था| कारगिल युद्ध के दौरान रोज़-ब-रोज़ वीर सेनिको के पार्थिव शरीर उनके गॉव सेना के द्वारा लाये जाते थे| सिविल साइड से उनके अंत्येष्टि मे राजस्व विभाग की टीम लेकर मे प्रतिभाग करता था और पुष्पांजलि एवं अन्य इंतज़ाम मेरे जिम्मे थे| दुरस्त गॉव मे लम्बी लम्बी चढाई पार करने का अनुभव कम था किन्तु साथ आये फौजियों द्वारा कारगिल सहीद की कहानियाँ सुनकर रोमांचित हो उठते थे|

ऐसी ही एक कहानी पार्वती देवी की है|उसका बेटा उस समय एक साल का था| गॉव का नाम संभवतः गलोगी था| मेने पहुँच कर पार्वती देवी को ढाढस बँधाया किन्तु वह मौन थी और अंत तक मौन ही रही| आँशु सुख चुके थे किन्तु मेरे बहुत कुरेदने पर पार्वती देवी ने एक बात कही जिसे सुनकर मैं अवाक् रह गया| उन्होंने कहा-“मे अपने इस बच्चे को भी सेना मे भेजूंगी”| आगे का मुझे पता नही किन्तु शासन ने उन्हें उस समय देहरादून मे पेट्रोल पंप का लाइसेंस दिया था|
इसी तरह कई वीरो की अंतिष्टियो मे मुझे भाग लेने का मौका मिला| वीर सैनिको को प्रणाम करने का मुझे भी मौका मिला और मैं धन्य हो गया| आज कारगिल विजय दिवस पर मैं अपनी स्मृतियों के आईने को साफ कर रहा था तो बहुत कुछ याद आ गया| भारत माता के सभी वीर शहीदो को मेरी श्रद्धांजलि और प्रणाम|

लेखक – विजय कुमार ढौंडियाल

             आईएएस (retd)