प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में 10,322 व्यक्तियों को ऋण बांटा गया;जाने पूरी खबर

राज्य में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में बैंकों ने निर्धारित लक्ष्य का 55 प्रतिशत ही काम किया है। इसमें करीब 1.50 लाख व्यक्तियों को रोजगार मिला है। पीएम स्वनिधि योजना में 10,322 व्यक्तियों को ऋण बांटा गया है। केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री डा भागवत किशन राव कराड ने सभी सरकारी व निजी बैंकों को केंद्रीय योजनाओं के माध्यम से दिए जाने वाले ऋण आवेदनों को शीघ्र निस्तारित करने के निर्देश दिए। डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के पायलट प्रोजेक्ट में अल्मोड़ा के बाद अब चमोली जिले का भी चयन किया गया है।केंद्रीय वित्त मंत्री डा भागवत किशन राव ने मंगलवार को सचिवालय में राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने बैंकों को निर्देश दिए कि सभी रद किए गए ऋण आवेदनों की दोबारा समीक्षा कर कमियों का निराकरण किया जाए। दूरस्थ क्षेत्रों में बैंक और प्रशासन इन योजनाओं की जानकारी के लिए जन जागरूकता अभियान चलाएं। उन्होंने प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के लक्ष्य को बढ़ाने के निर्देश भी दिए। बताया गया कि बैंकों ने इस योजना के निर्धारित लक्ष्य 1.90 लाख के सापेक्ष 1,05,352 इकाइयों को 1365.86 करोड़ का ऋण स्वीकृत किया गया।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत निर्धारित लक्ष्य 10 हजार के सापेक्ष 9427 इकाइयों को 156.20 करोड़ का ऋण स्वीकृत किया गया। यह लक्ष्य का 94 प्रतिशत है। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के वार्षिक लक्ष्य 1714 के सापेक्ष बैंकों ने 1335 इकाइयों वित्तपोषित किया है। यह लक्ष्य का 78 प्रतिशत है। मार्जिन मनी वितरण 51.71 करोड़ के सापेक्ष 20.58 करोड़ रुपये वितरित की गई।मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना अंतर्गत 4102 लाभार्थियों को ऋण स्वीकृत और 2494 को ऋण बांटे गए। मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना में 47 ऋण आवेदन पत्र स्वीकृत किए गए, जबकि 28 को ऋण दिया गया। स्पेशल कंपोनेंट प्लान योजना में अनुसूचित जाति मद में 561, अनुसूचित जाति मद में 63 और अल्पसंख्यक मद में 33 ऋण आवेदन पत्र स्वीकृत किए गए। वीर चंद्र सिंह गढ़वाली स्वरोजगार योजना में वाहन मद में 102 व गैर वाहन मद में 33 ऋण आवेदन पत्र स्वीकृत किए गए।

दीनदयाल उपाध्याय होम स्टे योजना में 92 ऋण आवेदन पत्र स्वीकृत हुए हैं। किसान क्रेडिट कार्ड संतृप्तता योजना में कृषि व सहायक गतिविधियों के लिए बैंकों ने 120199 किसानों को 2105.28 करोड़ का ऋण वितरित किया गया। 31 नवंबर तक प्रधानमंत्री जन धन योजना में 29,59,839, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में 21,30,899 और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में 9,43,775 और अटल पेंशन योजना में 339111 खाते खोले गए।बताया गया कि पहले चरण में उत्तराखंड के सभी जिलों के 16 विकासखंडों में स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और बैंक आफ बड़ौदा ने क्रिसिल फाउंडेशन के सहयोग से वित्तीय साक्षरता केंद्र स्थापित किए हैं। बैठक में मुख्य सचिव डा एसएस संधु, अपर मुख्य सचिव आनंद बद्र्धन, प्रमुख सचिव एल फैनई, सचिव अमित नेगी, आर मीनाक्षी सुंदरम समेत कई अधिकारी मौजूद रहे। इसके बाद केंद्रीय मंत्री ने राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति ने एक होटल में क्रेडिट आउटरीच कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि भाग लिया। उन्होंने 18 स्वयं सहायता समूहों के 112 सदस्यों को 7.25 करोड़ का ऋण वितरित किया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.