जल जीवन मिशन से जुड़े कार्य शीर्ष प्राथमिकता, समबद्धता एवं गुणवत्ता के साथ पूरे किये जाए – जिलाधिकारी

जनपद में जल जीवन मिशन के अन्तर्गत फेज-2 में करायें जा रहे कार्यो की प्रगति के संबंध में जिलाधिकारी विनीत कुमार की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में जल जीवन मिशन योजना से जुडे अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक आयोजित कर 1973.63 लाख की 36 योजनाओं की डीपीआर स्वीकृति की गयी, जिसमें जल निगम की 14 योजनाओं के लिए 967.47 लाख, जल संस्थान की 13 योजनाओं के लिए 612.48 लाख तथा सिंचाई विभाग की 9 योजनाओं के लिए 393.68 लाख की धनराशि की डीपीआर स्वीकृति की गयी।

 

जिलाधिकारी ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि जल जीवन मिशन भारत सरकार एवं राज्य सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है इस योजना के तहत सभी लोगो को घर-घर शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराना है, इसके लिए सभी अधिकारी यह सुनिश्चित कर ले कि उनके अधीन जो भी निर्माण कार्य कराये जा रहे है उन कार्यो को शीर्ष प्राथमिकता, समबद्धता एवं गुणवत्ता के साथ पूर्ण करते हुए योजना का लाभ आमजनमानस उपलब्ध कराया जाय इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाय। उन्होने निर्देश दिये कि जिन कार्यो की डीपीआर तैयार नहीं हुई है उन कार्यो की डीपीआर शीघ्रता से तैयार करते हुए सभी आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए स्वीकृति योजना पर त्वरित गति से निर्माण कार्य शुरू किया जाय।

बैठक में प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी संगीता आर्या, अधि0अभि0 पेयजल निगम वीके रवि, जल संस्थान डीएस देवडी, ग्रामीण वरिष्ठ कोशाधिकारी पूरन चन्द्र उप्रेती, सहित संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.